Friday, January 16, 2015

Japani-1

उस दिन मैं शिकागो से अबु-धाबी आ रहा था। एतिहाद एयरवेज का जहाज अब उड़ान की शुरूआती कश्मकश के बाद सहज हो चुका था।  खिड़की की सीट तो मिली पर एक तो वो हवाई पंख पर थी और दूसरा ये कि रात घिर चुकी थी सो बाहर झांककर कुछ देख सकने का कोई मतलब नहीं था सो मैंने अपने इकॉनमी सीट पर अपने आप को भी इकोनोमिकली बैठाते हुए सामने स्क्रीन पर फिल्मे ढूंढ़ना शुरू किया। इकॉनमी क्लास में ड्रिंक्स लाने में क्यों देर करते हैं ये लोग? मैं भन्नाया और स्क्रीन पर "रेन"  (RAN) नाम की अकिरो कुरसवा की फिल्म लगा ली।
स्क्रीन पर जापानी में लिखे नाम उभरने और मैं फिल्म को वहीँ चलता छोड़ दूर निकल गया।

कोजी-सान.…
मेरा नाम कोजी है और आप मेरे नाम के बाद कृपया "सान" न लगाएं - उस लड़के ने कहा।
ठीक है, मैं आपको कोजी ही बुलाऊंगा।
हाँ ये ठीक रहेगा।

कोजी मैं आपकी मदद चाहता था यहाँ आस-पास की जगह घूमने के लिए।
हाँ मैं चल सकता हूँ, मुझे ख़ुशी होगी। मेरा ऑफिस में आज का काम खत्म हो गया है सो चलिए चला जाये।

अच्छा तो आप यहीं रहते हैं, मैंने पूछा।
हाँ पास ही में।

और खाना,

......अभी और लिखना है

No comments: