Tuesday, December 8, 2009

मेरी पर्पल ड्रेस

कल मुझको पर्पल ड्रेस पहनकर जाना है स्कूल;
चलकर अभी दिलादो मुझको वरना जाओगे तुम भूल;

सब बच्चे यही रंग पहनकर कल स्कूल में आयेंगे;
मैं ऐसे ही जा पहुँची तो मुझको बहुत चिढ़ायेंगे

इस दिन का महत्त्व है कि ये रंग का भान कराता है;
खेल खेल में हम बच्चों को नई सीख दे जाता है।

===================================
Navya has started going to a play school. 7th December,09 was to be celebrated as the "Purple Day" in the school. Composed for her, on & for the "Purple Day".

Thursday, November 19, 2009

Self Awareness and Neuroscience

If one sees things the way they are or the most agreesome reality, one can be at peace with self and can even notice the evidences of this peace within. Buddhism calls such a reality as "tattva" or we may also call it "what is" or "thatness" - it is what is left out there in the world when we do not see it through a given meaning or pre conditioned filters. It is real in the world - just before the arrival of the meanings and interpretations added to them.

So, if in any situation, if we could zoom away to "thatness" and standing there, we start seeing things as they are and what are we in realtion to "that". We can all it our "Being".

This, being a certain definable way, makes us do many a things that include all our actions,
behaviour etc. and basing these actions on the cause and effect model of life, we could safely say that these actions are primarily responsible for what we have in life, starting from material possessions to our moods, feelings and our relationships as well. Here, I am talking about the consequences of the actions produced from a certain way of being.

Now, if we can clearly see the "tattva" or thatness of some aspect of our lives, and also as who I am, as a way of being, still making a shift in the being to produce certain results becomes possible. It requires a shift in the understanding and thus becomes very easy to choose as an experience to be something else. We can take the example of an actor here, who sees things as "that is" for a given scene and role and does not go into a required way of being to play that role until directed for. Once he/she chooses to be that, what the character in the movie is playing, they begin to experience the effects of that way of being, including pain, anger or joy - if its a part of the charater to be played.

So taking the situation as "that" we can shift our way of being as an accomplished actor and thus can produce results that were earlier not possible as the person was overwhelmed by the personal reality created out of "tattva".

Even nureoscience has suggested that going beyond the normally possible way of being, that is what yoga or meditation help someone achieve, can make changes to the chemistry in the brain and the brain evolves to this newly formed pattern.
Self awareness and meditation practices can help any one change the pattrens in the brain for better.

Refer to this pdf file for more information on neuroscience and being
Or
Download it form the following link:
www.strategy-business.com/media/file/leading_ideas-20070410.pdf
Also visit: http://www.davidrock.net/
- Rahul
========================================================
Bibliography :
Landmark Forum Notes/Newsletters
Value Creation Series - Bharat Soka Gakkai, Eternal Ganges Publications
The Power of Now / The New Earth - Eckhart Tolle
The Tibbetan Book of Living & Dying - Songyal Rinpoche
========================================================

Thursday, November 12, 2009

Epicureanism, Aponia, Ataraxia etc.

I do not have enough time today to read all this, so recording the links on the blog to freeze them to read at some other point of time.

Links to some interesting works of some great philosophers.

The site:
---------------
http://books.mirror.org/gb.titles.html


Books and Articles:
---------------
http://en.wikipedia.org/wiki/Epicureanism
http://www.epicurus.info/etexts.html
http://en.wikipedia.org/wiki/Ataraxia
http://en.wikipedia.org/wiki/Aponia
http://www.marxists.org/archive/marx/works/1839/notebook/

Wednesday, October 28, 2009

मेडीटेशंस - प्रथम अध्याय (किश्त - ७)

विलासिता की वस्तुएं मेरे पिताजी के पास प्रचुर मात्रा में थीं, उनका उपयोग वे घमंड या आत्म ग्लानी के बिना करते थे; उन वस्तुओं का होना या न होना उन्हें प्रसन्न या निराश न करता था। कोई भी उनको फरेबी या ठग या ज्ञान का दंभ भरने वाला न कहता था, सभी के अनुसार वे समय के साथ प्राप्त अनुभवों के स्वामी और समझदार इंसान थे जो चापलूसी से परे था और न केवल अपने बल्कि दूसरों के भी जीवन की गतिविधियों का नियंत्रण कर सकता था।

मंजे हुए दार्शनिकों का वे सम्मान करते थे, ऐसा नहीं की कच्चे या फर्जी दार्शनिकों का उन्होंने अपमान कर डाला हो पर उनको आसानी से भांप लेते थे वो।

आसानी से लोगों में घुल मिल जाने वाले, हास्य में निपुण किंतु उसकी नकारात्मक अधिकता की पहचान रखने वाले।

अपने शरीर का बड़ा ध्यान रखते थे वो, ऐसा नहीं की जीवन से बहुत मोह हो उन्हें, किंतु व्यक्तिगत छवि का ख्याल वे जरूर करते थे और उसमें लापरवाही नहीं करते थे। इसी कारण डाक्टरों या दवाओं का उनको मोहताज़ न होना पड़ा था।
==============================
क्रमशः

Sunday, October 18, 2009

ताओ-ते-चिंग की शिक्षाएं

ताओ-ते-चिंग, छठी शताब्दी ईसा पूर्व (6th Century BC) चीन में "लाओ त्जु " यानी वृद्ध/अनुभवी अध्यापक द्वारा लिखी गई शिक्षाप्रद बातों का संकलन है।
यह शिक्षाएं कितनी रोचक तथा आज भी कितनी प्रासंगिक है इसकी बानगी देखिये:

"यदि आप प्रतिभावान लोगों का बहुत ज्यादा महिमामंडन करेंगे
तो लोगों में प्रतिस्पर्धा बढ़ जायेगी।
यदि आप वस्तु संग्रह को अत्यधिक बढ़ावा देंगे तो
लोग चोरी की हद तक उतर आयेंगे। "

"लोगों का सुन्दरता को अलग करके देख पाना ही गंदगी का जन्मदाता है।
किसी को अच्छा कहने से बुरे की रचना अपने आप ही हो जाती है।"

इस रोचक और साथ ही साथ छोटी सी पुस्तक को पढने के लिए क्लिक करें। यहाँ इस पुस्तक का इंग्लिश अनुवाद दिया है। स्वयं इस पुस्तक का हिन्दी अनुवाद प्रस्तुत करने की इच्छा तो है किंतु ऐसा करना जल्दी सम्भव नहीं। आशा है ब्लोग्वानी से कुछ मित्र इस यज्ञ में साथ देंगे।
इसके लिए अन्य लिंक्स विकिपीडिया से जुटाए जा सकते हैं।

Tuesday, October 13, 2009

Car Servicing - Go "CARNATION"

Recently when I thought of getting my car serviced, I contacted a friend who owns the similar car, about the nearest authorized service center. He suggested a nearby Maruti service center but I could not really understand the location of it as I am not very much familiar with this new area I 've shifted into.

Whether it was the inability to get the location of the service center or my occasional (perpetual) habit of postponing things. Let me defend myself by saying that I postpone only the "not-so-important" tasks in order to get the tasks of higher priority be executed first. So I did not approach the service center. The idea of getting the car serviced stayed on my to-do list for quite a while and then faded away.

Just three days back it clicked to me to list the areas of life I am not showing willingness to be responsible and take action - the areas where resistance is beating me up and to my surprise the car servicing was the first job in that list. I promised myself that the car would be serviced by tommorrow evening, come what may. That evening I found this new company Carnation that is being promoted by the ex-chairman of the Maruti Udyog Limited, Mr. Jagdish Kattar.

Next morning at 9:15 AM, I was talking to the service manager of the Carnation in their premises. What I liked about Carnation in comparison to any Maruti service center is that they are equally well equipped and well trained but due to they being in the nascent stage and thus being less popular they have very few customers and that is why they treat one well and they spend time with the vehicle.

Though their charges are similar to Maruti's but the customer focus seems to be better here.

So where are you getting your car serviced next...?

Download the original attachment
Copying and pasting a formula in Excel


Did you ever copy a formula from a cell to some other cell(s) in MS-Excel…if yes then this copy paste must have confused some of the readers? In this article, I am explaining how the formula copy/paste works.


Let’s remember the rule of thumb

“When we copy/paste a formula, the formula cell references change relative to the current (active) cell, on the other hand we cut/paste a formula; the formula remains the same in the new destination.”



Learning how the formula cell references change when copied to other cells:

First goto the Tools->Options->View and check the formula check box. It displays the formula in a cell instead of its value.


Write a formula “=A1” in any cell and copy and paste it in a 3x3 grid of cells irrespective of their column and rows (either by manually or by drag-drop).


Scenario #1




=A1 =B1 =C1
=A2 =B2 =C2
=A3 =B3 =C3



Notice that the simple formula changes from A1 to A2,A3 and so on in the different rows while to B1,C1 in the different columns and similarly in other cells as shown in the attached grid.

This is known as relative cell referencing.


Scenario #2


=$A1 =$A1 =$A1
=$A2 =$A2 =$A2
=$A3 =$A3 =$A3



Notice that the simple formula remains A1 when copied in different columns but changes to A2, A3 in the different rows and similarly in other cells as shown in the attached grid.


OR


=A$1 =B$1 =C$1
=A$1 =B$1 =C$1
=A$1 =B$1 =C$1



Notice that the simple formula remains A1 when copied in different rows in the same column but changes to B1, C1 in the different rows and similarly in other cells as shown in the attached grid.


This is known as mixed referencing.



Scenario #3
=$A$1 =$A$1 =$A$1
=$A$1 =$A$1 =$A$1
=$A$1 =$A$1 =$A$1



Notice that the formula remains same across the gird.


This is known as absolute referencing.



Examples:

Name BasicSalary HRA NetSalary
Amit 1000 =B2*0.1 =B2+C2
Ajit 2000 =B3*0.1 =B3+C3
Sarita 3000 =B4*0.1 =B4+C4
Yogesh 4000 =B5*0.1 =B5+C5



Produces


Name BasicSalary HRA NetSalary
Amit 1000 100 1100
Ajit 2000 200 2200
Sarita 3000 300 3300
Yogesh 4000 400 4400



To better the previous example, we may write:


TaxRate 0.1

Name BasicSalary HRA NetSalary
Amit 1000 =B5*B2 =B5+C5
Ajit 2000 =B6*B3 =B6+C6
Sarita 3000 =B7*B4 =B7+C7
Yogesh 4000 =B8*B5 =B8+C8



That produces the following output:

TaxRate 0.1

Name BasicSalary HRA NetSalary
Amit 1000 100 1100
Ajit 2000 0 2000
Sarita 3000 #VALUE! #VALUE!
Yogesh 4000 4000000 4004000




Reason for producing the wrong results:


Relative cell reference for rate B2 did change to B3 ,B4 and so on and thus the formula produces wrong / unexpected output.


Solution:


To change the relative reference B2 to absolute reference $B$2 so that it produces the desired result as the following:



TaxRate 0.1

Name BasicSalary HRA NetSalary
Amit 1000 =B5*$B$2 =B5+C5
Ajit 2000 =B6*$B$2 =B6+C6
Sarita 3000 =B7*$B$2 =B7+C7
Yogesh 4000 =B8*$B$2 =B8+C8





TaxRate 0.1

Name BasicSalary HRA NetSalary
Amit 1000 100 1100
Ajit 2000 200 2200
Sarita 3000 300 3300
Yogesh 4000 400 4400



Hope this article clarifies the doubts on Relative & Absolute cell referencing.


Now try the following exercise to understand the mixed referencing and for answers, you can mail me.

Exercise:


Produce the following grid by writing the bold data yourself and a formula in place of the underlined text and fill the other cells by copy/paste of the formula.

1 2 3
1 1 2 3
2 2 4 6
3 3 6 9


Saturday, October 3, 2009

मेडीटेशंस - प्रथम अध्याय (किश्त - ६)

१६ अपने पिता में मैंने सीखा: नम्र स्वभाव, पूरे सोच विचार के बाद लिए गए निर्णयों के साथ अडिग होकर खड़े रहना; तरह तरह के सम्मानों, तारीफों व दिखावों में तनिक रूचि न रखना; मेहनत व कभी हार न मानने वाला जुझारूपन; हमेशा ऐसी बात सुनने को समय देना व तैयार रहना जिससे सबका भला होता हो; पक्षपात रहित प्रोत्साहन, सबको उनकी योग्यता के हिसाब से उनका पारितोषिक देना; कब सख्ती व कब नरमी से काम लेना चाहिए ऐसा उन्होंने अपने अनुभव से भली भांति जान लिया था;
समलिंगी प्रेम पर उन्होंने रोक लगायी थी। अपने को किसी अन्य सामान्य व्यक्ति जैसा ही मानना उनकी खूबी थी; अपने अधीनस्थ लोगों को उन्होंने रात के खाने पर अपने साथ होने की मजबूरी से मुक्त कर दिया था और साथ ही अपने शहर से बाहर के दौरों पर भी उन सबकी उपस्थिति की अनिवार्यता भी खत्म कर दी थी। कोई अगर अपनी मजबूरी के कारण से उनके साथ न जा पाता था उसे भी उनके व्यवहार में कोई भेद नहीं मिलता था। बैठकों में उनके विचारों में स्पष्टता व दृढ़ता होती थी, पहली नज़र में ही किसी चीज़ या बात से संतुष्ट हो जाने वालों में वे न थे, सवालों को पूर्ण रूप से उत्तर मिलने या देने से पहले वे उसे छोड़ते न थे। मित्रों के प्रति उनकी वफादारी किसी भी चपलता या दिखावे से परे थी। उनका संतुष्ट तथा खुशमिजाज़ व्यक्तित्व का स्वामी होना, दूरदर्शिता के साथ साथ छोटी से छोटी बात पर नज़र, सच्ची तारीफ़ व चाटुकारिता में भेद कर पाना, राज्य सञ्चालन की आवश्यकताओं का ध्यान रखना, व्यय का अच्छा हिसाब किताब रख पाने की क्षमता , इन सभी कार्यों के संपादन में कुछ लोगों द्वारा की जा रही अपनी आलोचनाओं सह पाने की क्षमता; ईश्वर से अंधविश्वासों के कारण डरना उनमें न था, न ही वे किसी को उपहारों या खुशामद से अपने पक्ष में लाते थे, अपितु उनका तरीका सहज सा था।
=======================================
क्रमशः

Friday, October 2, 2009

मेडीटेशंस - प्रथम अध्याय ( किश्त - ५ )

१३ केटालुस से सीखा कि : किसी भी मित्र द्वारा की गई आलोचना को नकारा जाए, भले ही वह आलोचना कितनीभी बेतुकी (unreasonable) जान पड़े; बल्कि उस मित्र को प्रयासों द्वारा पुनः उसके सामान्यतः किए जाने वालेव्यवहार में लौटा लाना चाहिए। ये भी सीखा कि अपने किसी से भी अपने अध्यापकों का जिक्र, दिल से कृतज्ञताजताते हुए करना चाहिए जैसा कि डोमितिअस और अथेनोदोतुस के लिखे विवरणों में संकलित है। साथ ही सीखाबच्चों के प्रति सच्चा प्यार भी।

१४ मेरे भाई सेवेरस से मैंने सीखा कि : परिवार को प्यार करना, सत्य को प्यार करना, न्याय को प्यार करना; उसीकी मदद से मैं थ्रासिया, हेल्विदिअस, केटो, दियो ब्रूटस को समझ पाया। उसी से मुझे ये समझ आया कि एकसंतुलित संविधान (Government) कैसा होना चाहिए, एक राज्य जिसके सभी लोगों को सामान अधिकार हों तथावे लोग अपनी बात कहने का अधिकार रखते हों। जहाँ का राजतन्त्र (Monarchy) अपनी प्रजा की स्वतंत्रता कोवरीयता देता हो।
उससे भी मुझको, दर्शन शास्त्र को एक सतत तथा उच्च कोटि का आदर देने का ज्ञान मिला और साथ ही मैंने उससेसीखा - अस्वार्थी होना, उदार दानी होना, आशावादी होना, मित्रों के प्रेम में विश्वास, अपने विचारों को व्यक्त करनेमें खुलापन / दक्षता - चाहे वे किसी को पसंद भी हों, अपनी पसंद - नापसंद को कह देना जिससे उसके मित्रों कोउसकी मर्जी के बारे में सिर्फ़ अनुमानों पर निर्भर रहने पड़े।

१५ मेक्सिमस् से मैंने सीखा: स्वयं का स्वामी होना (Self Mastery), किसी भी आवेग में आकर निर्णय लेने केदुर्गुण से दूर, सभी परिस्थितियों में प्रसन्न बने रहना - चाहे वे बीमारियाँ ही क्यों हों। चरित्र में एक जबरदस्तसंतुलन - सहज और साथ ही साथ शानदार। जो भी कार्य किया ही जाना है उसके प्रति गैर शिकायती बने रहकरअपनी शक्तियों को उसके संपादन में लगाना। वो सभी में जो एक भरोसा जगा डालता था कि वो जो कह रहा है वैसेही उसके कर्म भी होंगे - शब्द कर्म में सामंजस्य; वो जो भी करता था उसके पीछे उसकी भावना बड़ी ही भद्र होतीथी। उसने कभी भी आश्चर्य या चौंक जाने का प्रदर्शन नहीं किया, ही कभी जल्दबाजी या हिचकिचाहट दिखलाई,
ही कभी किसी काम को टाला, कभी हताशा या पीछे हटने की बात की, ही गुस्सा या गैर-भरोसे कि बातों मेंअटका। भलाई के कामों में लगना, सच्चा तथा क्षमा कर देने वाला व्यक्तित्व; वो ऐसा व्यक्ति था जिसको सही-ग़लतकी समझ ख़ुद ही थी कि वो ऐसा करने को मजबूर था। कोई भी ये नहीं कह सकता था कि मेक्सिमस् ने उसकोनीचा दिखलाया या ख़ुद को उनसे बेहतर मानता रहा। सबको पसंद आने वाले हास्य को वो बढावा देता था।


=================================
क्रमशः

Wednesday, September 16, 2009

गुस्ताव - एक कहानी (भाग - ३)

शाम हो चली थी। दिन भर अपनी गर्मी से धरा को तपाता सूरज थक चुका था। रोशन को स्टेडियम जाना था। गुस्ताव कहीं भी चल सकता था सिवाय घर वापिस लौटने के। पुस्तकें अपने थैले में डालकर गुस्ताव अपनी साइकिल पर रोशन के स्कूटर से मुकाबला करने की कोशिश भर करता बढ़ चला।

दोनों कुछ ही देर के फासले से स्टेडियम पहुंचे। गुस्ताव अंदर पहुँचा तो रोशन स्टेडियम का एक चक्कर लगा चुका था। गुस्ताव अंदर आकर मैदान से लगी सीढियों पर बैठ गया।
"आजा तू भी साथ हो ले", रोशन गुस्ताव के पास से निकलते हुए भरी साँस में बोला।
"अपनी कसरत तो यहाँ तक आने में ही हो गई", गुस्ताव ने आगे निकल चुके रोशन तक लगभग चीख कर अपनी बात पहुँचा दी।
चार चक्कर पूरे करने के बाद रोशन पसीने से तरबतर होकर सीढियों की तरफ़ निकल आया।
=======================
क्रमशः

Saturday, September 5, 2009

Leaving Delhi

I am sitting in my office now, it is 12:20AM. I am doing a usual 11 hours shift and today's shift started at 6PM (Indian Standard Time) that ends at 5AM. Leaving from home to office is not easy - home pulls backwards and office pulls forward; needless to say that office always wins in this tussle or tug-of-war. Though on very few occasions, when I am really down with fever and thanking my starts for being ill, I let the home win in this game.

Today I am down with viral fever and cough and taken a medication - a cough syrup, ciprofloxin tablets, and some other BD/TD things. Still I did not favour home in the game today. When the cab honked at 4:15PM, I waved my wife and daughter good-bye and dashed off to Noida, a suburb towards the eastern border of Delhi. My office is good 36 kilometers from my home but thankfully it was my last day in Delhi for this innings. I am shifting to a place that is only 5 kilometers away from the office.

Anita prepared a wonderful dinner today, this realization came at around 8:45PM. Afterwards, I staretd reading some Solaris troubleshooting tips and tricks.

In between I got remineded of my schooling in Bulandshahr where I went for a few months in the year 1981-82. Little googling took me to a web site http://www.batchmates.com/ that showed some names but I do not really remember anybody with whom I frolicked with. I further searched for all the other schools or colleges I attended and noticed myself getting little nostalgic at seeing the names of the people and the years they remained in those instituitions and also their probable places of residence today. I notice that I am still a lot sentimental, stoic philosophy is ditching me when I need it the most :-))

I forgot to mention before that working in longer shifts and on the top of it, spending 4 or 4 1/2 hours in commuting to & fro was depriving me of doing any other thing in a working day. Energy levels in the office, spending time with the family, translating "Meditations", working on the project "I M A Geek Now" all this would get a boost when I start saving on the commuting time though that time was being spent in pure philsopical conversations with the self i.e. "My Own Meditations".

Its 12:40AM now; I 'll reach home by 7:00 AM and the truck would arive at 7:30 AM.
I am shifting today, near to my workplace, leaving Delhi.

Tuesday, September 1, 2009

A new project - I M A GEEK NOW

I 've started to work on a project that focuses on teaching the basic IT skills to the elderly people so that they can also be a part of this digital world. These new gadgets should not remain only in their general knowledge domain but the objective of the project would be to make them experience the digital world.

More on this project is being documented on http://imageeknow.blogspot.com
If you are interested in participating as a volunteer, drop an e-mail to geekarrived@gmail.com

Sunday, August 16, 2009

मेडीटेशंस - प्रथम अध्याय (किश्त - ४)

१० अलेक्सेंडर दी ग्रामेरियन (भाषाविद अलेक्सेंडर) से सीखा: दूसरों की गलतियों पर बखेडा न खड़ा किया जाए; जब कोई शब्द या व्याकरण या उच्चारण की गलती करे तो उसमें नुक्ताचीनी या व्यवधान न डाला जाए बल्कि सफाई से उस बात का सही रूप प्रस्तुत किया जाए - उत्तर या पुष्टि के द्वारा और या फिर उसी बात पर विचार विमर्श के द्वारा न कि स्वयं को आनंदित करने हेतु बीच में बोलकर या बीच में ही उसका सही रूप प्रदान करके।

११ फ्रोंतो से सीखा: जलन या द्वेष, पाखंड, संदेह - तानाशाहों या रोम के संभ्रांत लोगों के व्यक्तित्व का भाग हैं। ऐसे लोगों में मानवीय प्रेम का प्रायः आभाव होता है।

१२ अलेक्सेंडर दी प्लाटोनिस्ट से सीखा: शायद ही कभी, जब तक कि ऐसा करने का कोई विशेष आवश्यक कारण न हो, किसी को भी कभी ये न कहा या लिखा जाए कि "मैं बहुत व्यस्त हूँ" ; न ही ऐसे किसी बहाने का सहारा लेते हुए, वर्तमान परिस्थितियों को दोष देते हुए, हमारे सगे सम्बन्धी जो साथ रहते हों, उनके प्रति अपने कर्तव्यों के निर्वहन से लगातार बचते रहना।

=========================================
क्रमशः

गुस्ताव - एक कहानी (भाग- २)

गुस्ताव ने "नीड़ का निर्माण फिर" के पन्ने पलटना शुरू कर दिया। बाहर की गर्मी की अपेक्षा अंदर का ताप कम तो था ही, साथ ही साथ वातानुकूलन के कारण बड़ा ही सुकून पा रहा था वो उस कमरे में।
आंखों के सामने रखी किताब को छोड़कर मन शायद कहीं और निकल चुका था।

किस्से कहानियों का शौक उसे बचपन से ही था। उसने कभी बचपन में एफिल टावर की कहानी पढ़ी थी। गुस्ताव नाम तो उसे इतना जंचा कि मन ही मन अपने आप को यही नाम दे दिया अपने अंतर्मन में। नाम तो कुछ और ही दिया गया था उसे पर नौ साल की उम्र से ही आत्म-संबोधन में गुस्ताव ने उसके वाह्य नाम को विस्थापित कर दिया था

गुस्ताव एफिल उस फ्रांसीसी इंजिनियर का नाम था जिसने एफिल टावर को सन १८८७ में तैयार कराया था।

Tuesday, August 4, 2009

परीक्षा


Gustav - A Story (Part -1)

Gustav was lost somewhere deep in a trail of thoughts as he cycled his way, it was almost like the bicycle was moving on its own. The fulfillment of having a stimulating conversation with Roshan in the comfort of his newly air-conditioned room – Gustav was almost nostalgic with few similar memories. The bicycle almost paddled on its own. He almost lost a heartbeat as the cycle suddenly wobbled past a completely unexpected speed breaker. It was enough to pull him back to the present moment.

Finally he was at Roshan’s house. He punched the bicycle bell while parking it right in front of the house, opened the gate and walked straight into the gallery. Rani, Roshan’s pet Pomeranian, dashed across the gallery and clung to Gustav’s legs as he struggled to maintain his balance. Roshan suddenly appeared in the gallery from inside his room as he pushed aside the drapes, almost violently. The drapes hung in the middle of nowhere were seemingly just an add-on to the annoyance of having been pulled out from his afternoon siesta which was almost apparent on his face. “Sir! Why don’t you try your luck with an afternoon nap sometimes? – a vain attempt at hiding his irritation. Gustav almost went blank. “Dropped in to pick a novel” – he lied to straighten things out.

Roshan went back into his room, back to his cozy slumber. Gustav walked over to the cubboard and picked up three unread and visibly ‘never-opened-before’ books. He studied them carefully – one was a random poetry collection, the other one was a piece of Harivansh Rai Bachchan's biography and the last one was something on Economics. The genres of the books were almost as random as the thoughts racing across his mind…

=============================================

(To be continued...)

Translated into English by Sushant Patnaik.


Sunday, July 26, 2009

मेडीटेशंस - प्रथम अध्याय (किश्त - ३)

अपोलोनिअस से सीखा: अपना स्वामी स्वयं बने रह पाना, स्वयं के लिए कुछ भी स्वतः घटित होने देने के लिए न छोड़ना, कभी क्षण भर के लिए भी तर्क का मार्ग न छोड़ना, तेज़ वेदना (दर्द) या कि अपने बच्चे कि मौत और या ही लम्बी चली बीमारी - सदा एक से ही बने रहना। जीता जागता उदाहरण था वो एक तीव्रता और ठहराव का, अपनी बुधिमत्ता और दार्शनिक ज्ञान का कभी बहुत फायदा नहीं लिया सिर्फ़ अपने लिए। उसने ही मुझे सिखलाया कि मित्रों से मदद लेने कि स्तिथि में भी कैसे अपनी शान को बरक़रार रखा जाए और अगर उनको मना भी कैसे करें जो उन्हें बुरा न लगे।

सेक्स्ट्स से सीखा: दयालुता, एक पिता कि भांति एक परिवार कैसे चलाया जाए इसका प्रतिरूप (मॉडल) भी, प्रकृति के अनुसार जीवन यापन, अप्रभावित हुयी शान, मित्रों के लिए सहानुभूति, साधारण या कम ज्ञान रखने वालों के प्रति सहनशीलता, सबके अनुरूप अपने आप को ढाल लेना जिससे सहमति का वार्तालाप हो सके और उसमे से चाटुकारिता कि बू न आए, लेकिन साथ ही ऐसे व्यवहार के दौरान लोग उसका बहुत सम्मान भी करते थे; जीवन के मूल सिद्धांतों की खोज और उनके स्थापन में उसकी योग्यता, कभी भी क्रोध या किसी अन्य भावना में न बहना, इस सभी से मुक्त होकर मानवीय सदभाव रखने की योग्यता, तारीफ़ करते हुए ज्यादा शोर शराबा न करना, और अधिक ज्ञान का स्वामी होने वे बावजूद उसका दिखावा न करना
=========================================================
क्रमशः

Tuesday, July 21, 2009

Epictetus and Enchiridion

On the very first page of the Meditations, I met Epictetus. Epictetus was the greek philosopher who lived from 55AD to 135AD, almost 80 years. Once a slave, this greek philosopher came from the same school of stoic philosophy as the emperor Marcus himself. Both of them were the late Stoas.

Stoic
philosophy stresses on rising above the emotions to reach to a level where thinking becomes unbiased and one uses reason or logic as a way to deal with whatever life throws.

The primary works of Epictetus are - Discourses and Enchridion (means a Hand-Book), which were collected by his son Aaron.

Monday, July 20, 2009

A Good Travel Blog Found!

"Google searches at times bring forth some thing that we were not really searching for in the first place, but the some of the links redirect us user to something so engrossing that one tends to forget what he was really looking for."
Many a times all of us must have heard or experienced it ourselves.
I have found the following link "bilkul aise hi" :
http://www.yogeshsarkar.com/
This blog details the nitty-gitties of biking out to the extreme interiors of North India.

Thursday, July 16, 2009

Pondering Over...

Few changes in the past few days:

1. Removing the hindi translation of "The Alchemist" as it is surely a violation of the copyrights of the original owner and it might result in revenue loss for them.

In fact, when I started translating it, I had no idea of its reach - it it would reach so many people and it could possibly endanger the revenue for the publisher. Initially, when I started the blog, I thought of translating it for me, my family and my friends. I wanted to enjoy the process of translation and enjoy it word by word.

Now, after removing it from the blog, I am seeking / writing to the publisher to see the posibility of publishing it on the blog.

2. Lately I also thought of an invented/created future of hindi blogging...but somehow completing the same in English here.

Here is goes:
==============================
For a few days, I have been thinking on lines of the "Open Source Movement" for the future that could be created by hindi bloggers.

A community of volunteers of the hindi blogging community. On the lines of the open source movement, they start enriching the hindi language by bringing in the richness from the literature written in the other languages in the world e.g. from Russian, Japanese, Chinese, French, Spanish, Portugese etc.

Since most of the bloggers come from different professions, and knowing that most of them are not doing blogging commercially - the cost of such enrichment can also be kept minimal.

Unlike Russian, Chinese, Japanese etc, hindi language pays a heavy price of the natural ability of Indians being comfortable in English. I am not sure whether on its own, the hindi language would enriched that fast without setting such a target in the first place.

=================================

Tuesday, July 14, 2009

हिन्दी ब्लॉग्गिंग का भविष्य - हमारी जिम्मेदारियाँ

हिन्दी ब्लॉग्गिंग के भविष्य पर अपने निहायत निजी विचार सार्वजनिक करना विवादस्पद हो सकता है, इसका अंदाजा है मुझे। लेकिन पिछले दिनों अचानक शुरू हुए विचार अपने मंथन से कुछ प्रेक्षण इकट्ठे कर बैठा जो पहले पहल बड़े ही विचित्र से और असंभव से जान पड़े। ऐसा भी लगा कि कहीं ये मेरी, सामने उपस्थित तथ्यों के बारे में व्यक्तिगत समझ तो नहीं। अब ऐसा तो हर बार होता है - मेरी समझ तो हमेशा मेरी व्यक्तिगत ही रहेगी। इस विचार के साथ साथ ये भी जान पड़ा कि मेरे विचारों से सबको अवगत कराने से कुछ नई संभावनाओं का सृजन हो सकता है।

मोटी मोटी बात कहूँ तो मेरा मानना है कि हिन्दी भाषा और ब्लॉग्गिंग का कुछ हिस्सा अगर नियंत्रित माहौल में एक ख़ास उद्देश्य कि प्राप्ति के लिए एक परियोजना की भांति कुछ समय तक चलाया जाए और अंतत ये उद्देश्य हासिल किए जाएँ।

परियोजना के उद्देश्य :
१ - हिन्दी (और इसकी प्रेरणा से अन्य क्षेत्रीय भाषों से भी) बड़े जन समूह को इन्टरनेट पर प्रकाशित
सामग्री की ओर लाना।
२ - हिन्दी के एक नए शब्दकोष का विकास
३ - हिन्दी विकास को अंग्रेज़ी विरोध या अंग्रेज़ी को दी गई प्राथमिकता को हिन्दी विरोध मानने की
धारणा का खंडन
४ - हिन्दी को चीनी, जापानी, स्पेनी , रूसी, पुर्तगाली, अरबी, जर्मन, फ्रेंच या अन्य भाषाओँ की भांति तरह
तरह के साहित्य से समृद्ध करना
५ - जहाँ हिन्दी के शब्द उपलध न हों वहां अंग्रेज़ी को हिन्दी के सहायक भाषा मानते हुए अंग्रेज़ी से
शब्दों की पूर्ति करना
६ - हिन्दी और अंग्रेज़ी के भाषाई आधार से जन्मे सामाजिक अंतर को पाटने में मदद करना व
सृजन को अपना आधार बनाना


आपने लेख के आगे के हिस्से को में तीन भागों में बाँट रहा हूँ:
१ - हिन्दी भाषा और हिन्दी ब्लॉग्गिंग का वर्तमान
२ - हिन्दी भाषा और हिन्दी ब्लॉग्गिंग का इसी वर्तमान पर आधारित भविष्य
३- नये और कई प्रकार के, परिणामोन्मुखी मोडलों की सहायता से एक तय भविष्य का निर्माण

१ हिन्दी भाषा और हिन्दी ब्लॉग्गिंग का वर्त्तमान


वर्तमान में यह साफ़ सिखाई पड़ता है कि पुरानी कुछ सदियों के विपरीत आने वाली कुछ सदियाँ ( चलिए सिर्फ़ अगले १० सालों के भविष्य का अनुमान लगते हैं) लड़ाईयों या आक्रमणों से ज्यादा व्यापार, टेक्नोलॉजी और खोजों से जुड़ी होंगी। व्यापार, टेक्नोलॉजी या खोजें - विशुद्ध रूप से सृजन से ही जुड़ी है। इनके विकसित होने में मानवीय वैचारिक आदान प्रदान का बड़ा ही महत्त्व है जो सीधे सीधे भाषा से जुडा है। भारत में, अपने इतिहास के चलते, समाज में एक भाषाई दरार है जो एक पूरी कि पूरी जेनरेशन को हीन भावना से भर रही है। यहाँ सरकारी स्कूलों में, सरकारी नीतियों के चलते हिन्दी में पढाई होती है, जो आग चलकर व्यक्ति को कुछ अपूर्ण रह जाने का अहसास दिलाती है जिसका भराव पटाव वो अंग्रेजी से पूरा करता है। हाँ हरेक ऐसा नहीं कर पाता। अंग्रेज़ी माध्यम से शिक्षा प्राप्त लोगों को ऐसी अपूर्णता नहीं होती।
अभी चल रही हिन्दी ब्लॉग्गिंग उसी स्थान में रहकर चल कदमी करने जैसा ही है। ब्लोग्गिन का मुख्या उद्देश्य अपने विचारों को समय रेखा पर दिन प्रति दिन रखते चले जाना है। ये विचार भी हरेक की अपनी अपनी योग्यताओं, भावनाओं और परिस्थितियों से आते हैं। मुख्यतः रिपोर्टिंग और प्रतिक्रियात्मक लेखन का पटल है ब्लॉग्गिंग। हाँ, जो लेखक थोड़े सृजनात्मक लेखन में भी दखल रखते हैं उनको भी इस माध्यम से न केवल अपनी रचनाओं लिखने वरन उन् को लोगों तक पहुँचने का सस्ता व् अच्छा माध्यम मिल जाता है। हिन्दी ब्लोग्गिन से हिन्दी भाषा की समृध्धि में योगदान तो मिलता है परन्तु ये सब कुछ "under one roof" न होने ऐसा योगदान काफ़ी "haphazard" है।


२ हिन्दी भाषा और हिन्दी ब्लॉग्गिंग का इसी वर्तमान पर आधारित भविष्य


सभी कुछ इसी प्रकार कहते रहने पर, आने वाले समय में भी हिन्दी भाषा को हिन्दी ब्लोग्गिन से मिलने वाला योगदान बहुत बड़ा न कहलायेगा। समग्र तस्वीर को एक साथ देखें तो मालूम पड़ता है कि भाषा को ब्लॉगर दल से नई चीज़ों की जानकारी तो प्राप्त होगी, परन्तु अधिकत लोगों को फिर भी अंग्रेज़ी सीखकर ही आगे बढ़ना पड़ेगा। चीनी या जापानी भाषीयों के उलट हम हिन्दी भाषा कि कमियों को दूर करने के बदले या तो हम उसकी कमी को सहते चले जायेंगे या उसे अंग्रेज़ी ज्ञान से पाटेंगे। आने वाली पीढियां भी वर्तमान पीढी के अंग्रजी को प्राथमिक भाषा मानकर चलने से हिन्दी भाषा और हिन्दी ब्लोग्गिन को अगले १०-२० साल में विलुप्त हो जाने का खतरा भी है।


३ नये और कई प्रकार के, परिणामोन्मुखी मोडलों की सहायता से एक तय भविष्य का निर्माण

एक पुराना और परखा हुआ मॉडल है - "ओपन सोर्स मूवमेंट" पर आधारित मॉडल। जिस प्रकार १९८४ के बाद से कम्प्यूटर प्रोग्रामर्स के एक बड़े धडे ने सॉफ्टवेर विकास का आधार व्यावसायिक महत्त्वाकांक्षा की जगह स्वतंत्रता और क्वालिटी रख दिया और माइक्रोसॉफ्ट और ओराक्ल जैसी कंपनियों के सामने लिनुक्स, मोजिला, माय सीकुअल, विकिपीडिया, वर्ड प्रेस और अन्य तमाम शानदार सॉफ्टवेर बना दिए। इन प्रोग्रामर्स में से अधिकतर विश्वविद्यालय के छात्र थे। अधिकतर का इस प्रयास में धन उपार्जन न होता था। परन्तु कुछ पाहे से तय उद्देश्यों कि प्राप्ति में उन्होंने एक नये ही भविष्य का सृजन कर दिया जो शायद ऐसा न होता अगर सभी लोग सॉफ्टवेर विकास के उद्देश्य को सिर्फ़ व्यावसायिक महत्वाकांक्षा ही मानते चले जाते।
अगर हम हिन्दी ब्लोग्गिन के एक समूह को इसी मॉडल पर कुछ पहले से तय उद्देश्यों की प्राप्ति के लिए चलायें जहाँ लोगों का सहयोग, न्यूनतम खर्चे में ही कुछ नया सृजन करे। यह निश्चित ही पहले से तय भविष्य तो पाये ही साथ ही प्रक्रम में उत्पन्न नई संभावनाओं को भी आगे बढ़ हासिल करने में मदद करेगा।

Saturday, July 11, 2009

मेडीटेशंस - प्रथम अध्याय (किश्त - २)

४ अपने दादाजी से मैंने सीखा कि जनता- जनार्दन के स्कूलों (उन दिनों में) कि बजाय घर पर ही अच्छे शिक्षकों से पढ़ना चाहिए। यह भी कि इस सबमें खर्चे कि परवाह न करनी चाहिए।

५ अपने अध्यापक से सीखा कि सर्कस या दौड़ में नीले या लाल दल का पक्ष न लूँ और न ही एक दूसरे को मौत के घाट उतर डालने वाले ग्लेडीएतरों के खेल में हलके या भारी दलों का पक्ष। साथ ही साथ ये भी कि दर्द को कैसे सहा जाए; इच्छाएं कम ही रखी जाएँ; अपने हाथ से काम करने को वरीयता; अपने काम से ही काम रखना - दूसरों के मतलब में टांग न अडाना; और भर्त्स्नाओं या दुर्भानाओं से प्रेरित चुगलियों से अप्रभावित रहना।

दिओगनेटस से सीखा कि बेमतलब कि या तुच्छ बातों में ज्यादा उत्साह न दिखलाया जाए; जादू, चमत्कारों या ऐसे ही कमाल दिखलाने का दावा करने वालों, प्रेत भागने वालों पर भरोसा न किया जाए; बटेर की लड़ाई या ऐसे ही किसी और खेल को बढ़ावा न दिया जाए; बोलने की स्वतंत्रता हो; दर्शन शास्त्र से लगाव रखा जाए, इन सबके भाषण सुने जाएँ - (नामों के इसी क्रम में) बाचिअस, टेनदसिस और मर्सीअनुस; कम उम्र से ही लेख-निबंध लिखे जाएँ; शिविर का सख्त बिस्तर, ओढ़ने का कम्बल और ग्रीक परम्परा की अन्य ऐसी ही चीज़ों के प्रति लगाव विकसित किया जाए।
रस्तिकस से सीखा कि ख़ुद को बेहतर करने की इच्छा रखी जाए; शब्दों के आडम्बर (जन समूह के आगे) के चस्के से बचा जाए; न अपने अनुमान या कयास प्रस्तुत किए जाएँ; न ही दिखावे के लिए अपनी अनुशासित या उदार बना जाए; शब्दों के सुंदर दिखावे से भी बचा जाए; घर में खास अनुष्ठानों के कपड़े पहन कर न घूमा जाए;
पत्र लेखन सहज साधारण ही रखा जाए - जैसा रस्तिक्स ने सिनेओसा से मेरी माँ को लिखा था; जिन्होंने भी मुझे बुरा भला कहा सुना हो उनसे जल्दी ही सम्बन्ध वापिस सामान्य कर लिए जाएँ, जैसे ही वो इसके लिए तैयार हो जाएँ; गौर से पढ़ना, पुस्तक पढ़कर उसकी छिछली समझ पा कर ही संतुष्ट न रह जाना; लोगों से जल्दी या आसानी से सहमत न हो जाना; प्रसिद्ध ग्रीक दार्शनिक एपिक्टेट्स के उपयोगी लेख रस्तिक्स ने मुझे अपनी व्यक्तिगत पुस्तक से पढ़वाए थे।

==========================================
क्रमशः
नोट: मेडीटेशंस का एक तात्पर्य है अपने आप से की गई बातें। यह पुस्तक मार्कस औरिलिय्स के अपने आप से किए गए वार्तालापों का ही संकलन है। इसके कई अंग्रेज़ी अनुवाद होने और उन सभी में थोड़ा फर्क होने के कारण यहाँ इस हिन्दी अनुवाद का उद्देश्य किसी एक अंग्रेज़ी संस्करण का अनुसरण न कर एक रोचक हिन्दी अनुवाद प्रस्तुत करना है जो मूल रूप में कई अंग्रेज़ी संस्करणों से आता होगा।

Thursday, July 9, 2009

मेडीटेशंस - प्रथम अध्याय (किश्त - १)

१ अपने दादा वेरुस से (की भांति) मैंने शालीनता और नर्म स्वभाव पाया है।
२ जैसा लोग कहते भी हैं, और मुझको भी ऐसा याद है, अपने पिता से (की भांति) मैंने सम्पूर्णता और पुरुषत्व पाया है।
३ अपनी माँ से मैंने सीखा : धर्मनिष्ठा, उदारता, ग़लत करने से बचना - यहाँ तक की इसके विचार से भी, जीवन की सादगी, धनिकों की आदतों से परे रहना।


==============================================
मेडीटेशंस एक महान रोमन शासक मार्कस औरिलियस द्वारा लिखी गई
एक प्रसिद्ध पुस्तक है जिसमें उसने अपने विचारों को संगृहीत किया है।

मेरी इच्छा इस ग्रीक भाषा में लिखे ग्रन्थ के इंग्लिश अनुवाद को
हिन्दी में प्रस्तुत करना है।

पुस्तक के बहुत से संस्करणों में से एक यहाँ है : क्लिक करें
==============================================
तस्वीर विकिपीडिया के सौजन्य से।

Sunday, June 28, 2009

गुस्ताव - एक कहानी (भाग- १)

दिमाग तो जैसे कहीं और ही खोया हुआ था, हाँ साईकिल जरूर सड़क पर ही चल रही थी, मानो अपने आप। रोशन के घर पहुंचकर उसके नए एसी की ठंडक में गपियाने का मजा - गुस्ताव मन ही मन पुराने लगभग मिलते जुलते अनुभवों से दो चार हो रहा था। साईकिल के पैडल अपने आप पड़ते जा रहे थे। एक बड़े ऊँचे से स्पीड ब्रेकर नीचे आते ही साईकिल उछल गई, धक् से दिल की कई धड़कने गायब हो गयीं, वास्तविकता में लौटा लाने को इतना काफ़ी था।

रोशन का घर आ चुका था। उसने साईकिल बाहर ही लगा कर घंटी बजाई और गेट खोलकर गैलरी तक जा पहुँचा। रानी, रोशन की पामेरियन कुतिया, भागकर बाहर आई और गुस्ताव के पैरों में लिपटने और उन्हें चूमने लगी। गिरते गिरते बच ही गए भाई साहब । तभी रोशन परदे को तेजी से बांयीं और झटक कर अंदर के कमरे से बाहर गैलरी में निकल आया। परदा इतनी बड़ी अड़चन तो नहीं था पर शायद उसके नींद से अचानक जागने से चिडचिडाहट चेहरे पर आ ही गई थी जो परदे के वहां बेवजह टाँगे जाने से बढ़ गई। "दिन दुपहरी थोड़ा आराम ही कर लिया करो महाराज", रोशन ने अपनी चिडचिडाहट दबाते हुए कहा। गुस्ताव को कुछ न सूझा । "नोवेल लेने आया था", गुस्ताव ने झूठ बोलकर बात साधी।

अंदर चलकर रोशन फ़िर से सो गया। गुस्ताव ने आगे बढ़कर अलमारी से कुछ पहले कभी न पढ़ी गई और शायद कभी खोली भी न गई तीन किताबें निकाल लीं। गुस्ताव उन्हें गौर से देखने लगा एक कोई कविताओं की किताब थी, दूसरी हरिवंशराय बच्चन की आत्मकथा का एक खंड और तीसरी अर्थशास्त्र की।

=====================================
क्रमशः

Saturday, May 30, 2009

The religious teachings - basis of living your life

The education makes living life a lot easier. The religious education, any religion it may be, directly address the life related issues. It educates on life itself, a level of education far above than learning the know how of a technical topic. Issues related to daily life, relationships, finances and business, wisdom, morality, and many other aspects of a human life are addressed by religious teachings.

Whosoever has written them, they made it sure that the common men can understand and execute their lives accordingly. The Bhagvad Gita, the Mahabharata, the Ramayana, the Koran, the Bible, the jataka tales and many other such works have directly or indirectly addressed the questions related to conducting one's life.

The stories from the religious books, religious serials for the new generations surely affect some or the other decision we make in life.

Today we are living in a market governed economy, and we are growing up for the first time for sure ;-), many questions we are facing for the firts time. Right-wrong, ability-inability, morality-immorality...such vicious circle deprives us of the moment of life we are living in. Every question or problem of living can be related to some or the other religious teaching, including global warming.

If we base our lives on the religious teachings and strategies suggested by them, we base our lives on the collctive knowledge of thousand years of the human kind. It is very simple to understand from this example - we wear a shirt, to evolve into its present form, it must have taken thousands of years. Similarly religious teachings have been in place for many years and they offer a kind of "optimized way of living". Here I definitely do not mean that following religious teachings is equivalent to being spiritual, whih would anyway is a different matter as well as a choice.

I simply mean learning emotional intelligence from this way of living. Its a major parameter of success in today's world, specially in a service industry like India.
Emotinal intelligence deals with a human beings ability to conduct relationships and his/her reactions and responses in various life conditions.

In a way, religious teachings provide the easiest and the cheapest way of learning emotional intelligence.

Gautam buddha, like many other grwat human beings, have discovered a lot if such knowledge related to the problems of living and he shared it with the people out of compassion.


I am starting a new blog at http:\\thetenthstate.blogspot.com, to share and discuss the recent learnings being in buddhism.

I am sure that the article here would add value to you.

जीवन का आधार धार्मिक शिक्षा द्वारा बनाया जाना चाहिए

शिक्षा मानव जीवन को बहुत आसान बना डालती है। धार्मिक शिक्षा, चाहे वो कोई भी धर्म हो, सबसे सुलभ और सीधे जीवन से जुड़ी होती है। विषयों के ज्ञान से कहीं आगे जीवन जीने का ज्ञान देती हैं ये धार्मिक शिक्षाएं। जीवन का हर पहलू - दैनिक जीवन यापन, रिश्ते, पारिवारिक जीवन, व्यापार, समझदारी, नेतिकता और अन्य तमाम पक्षों को छूती हैं ये शिक्षाएं। लिखने वालों ने बहुत सारे उपस्थित ज्ञान को बहुत आसान बनाकर सामान्य जन के हित में प्रस्तुत किया होता है वहां। कोई भी धार्मिक ग्रन्थ - गीता, महाभारत, रामायण, कुरान, बाइबल, जातक कथायें तथा और भी बहुत से ग्रंथो ने जीवन यापन के बहुत सारे प्रश्नों का ही तो उत्तर प्रस्तुत किया है।

बचपन में पढ़ी गई धार्मिक कहानियों, नई पीढी के लिए धारावाहिकों ने भी, बहुत से निर्णयों को किसी न किसी मोड़ पर प्रभावित किया ही है।

आज जब व्यापारोंमुखी अर्थव्यवस्था में हम लोग रह रहे हैं, और निश्चय ही हम तो पहली ही बार बड़े हो रहे है, बहुत से नए प्रश्न आ खड़े हुए हैं हमारे सामने। सही-ग़लत, काबिलियत-नाकाबिलियत, नेतिक-अनेतिक - सवालों के चक्रव्यूह में जीवन का क्षण स्वाहा हो जाता है। जीवन के हर प्रश्न को इससे जोड़ा जा सकता है, यहाँ तक कि ग्लोबल वार्मिंग को भी।

धार्मिक शिक्षाओं और उनके द्वारा स्थापित जीवन कि रणनीति को जीवन में लाने से हम हजारों-लाखों वर्षों के ज्ञान को अपने जीवन जीने का आधार बना सकते हैं। अब ये कुछ ऐसे ही है जैसे कि कपड़ा पहनना। यूँ देखिये कि एक कमीज़ जो हम पहनते हैं उसके आज तक के विकास में हजारों-लाखों साल लगे होंगे। ठीक ऐसे ही धार्मिक शिक्षाएं भी हजारों-लाखों सालों में जाकर स्थापित "ओपटीमाइज़ड" जीवन शैली को प्रस्तुत करती हैं। यहाँ मेरा धार्मिक शिक्षाओं से तात्पर्य आध्यात्मिक होना बिल्कुल नहीं है जो इसी सिक्के का दूसरा पहलू होगा।
मेरा सीधा मतलब इमोशनल इंटेलिजेंस से है जो आज जीवन में सफल होने का एक बड़ा कारक है। इमोशनल इंटेलिजेंस - जिसमे एक इन्सान को किसी तकनीकी ज्ञान नहीं वरन बाकि इंसानों से रिश्ता निभाना, विभिन्न परिस्थितियों में उसकी प्रतिक्रया का अध्ययन किया जाता है।
देखा जाए तो हर धर्म कि शिक्षाएं इमोशनल इंटेलिजेंस सीखने का सबसे आसान और सस्ता तरीका होती हैं।
बहुत से अन्य महानुभावों कि भांति गौतम बुद्ध ने भी हजारों वर्षों पहले ऐसा ही महत्वपूर्ण ज्ञान खोज कर, करुणा वश उसको सब लोगों तक पहुँचने का काम किया था।

मैं भी अपनी अपनी हालिया सीखी और "इन प्रोसेस" बोधः शिक्षाओं पर आधारित नया ब्लॉग शुरू कर रहा हूँ।
आशा है कि इसके लेख आपको रोचक लगेंगे।

http:\\thetenthstate.blogspot.com

Monday, May 4, 2009

मनीष से किया वादा पूरा हुआ - कहानी छाप चुका हूँ उसके लिए

मनीष से वादा कर लिया था - कहानी तो लिखनी ही है, बोला था मनीष। पूरा ही पिंजर तैयार किया मनीष ने, मैंने भी उसका इशारा पाते ही रंग भर दिए।
मनीष योग सिखाते हैं और मैं एक टेलिकॉम कंपनी में तकनीकी विषयों के शिक्षा से जुड़ा हूँ। कहानी लेखन से दोनों के कार्य क्षेत्र का जुडाव नहीं है। दोनों ही "आत्म ज्ञान" पर व्यक्तिगत शोध करते हुए टकरा गए और किसी क्षण ये वादा हो गया कि नए कुछ नया ज्ञान जो इकट्ठा किया है उसे एक कहानी का रूप दे दें। जिस मूल रूप में कहानी बन पड़ी वोह ही छाप दी है।

कहानी पढने के लिए क्लिक करें

Saturday, April 25, 2009

ये दिल्ली है मेरे यार...


दिल्ली प्रतीक है...

उन उत्तेजनाओं की -

निर्माण किया जिन्होंने इसका;
उन संतुष्टियों की -
सहेजा हमारे लिए जिन्होंने इसको;
उन शक्तियों की -
देश चलाती हैं जो;

उन् मेधाओं की -
भविष्य की कुंजियाँ हैं जो;
उन घमंडों की -
बोझ होने पर भी लादे है जिनको;
उन दुखो की -
सहा है जिनको इसने;
उन हसरतों की -
जिन्हें पूरा करती है ये, कुछ रह भी जाती हैं अधूरी;
उस गरीबी की -
करुणा है जिसके लिए इसमें;
उस अमीरी की -
आशा के साथ दूर से ही देखा जिसको;
दिल्ली प्रतीक है ...

Picture Courtsey : www.wikipedia.com

बचपन और परिपक्वता (Childhood vs Maturity)


प्यारे बच्चे...
(O sweet little toddler...)

देख तुझे मैं खुश भी हूँ और उदास भी;
(Seeing you makes me filled with hope then I feel a little disheartened too)

खुशी
है कि तू जन्मा, जीवित भी है तू अभी;
(I am happy that you have arrived in this world and also that you are alive now)

प्रकृति
भी है साक्षी तेरे कोमल जीवन कि;
(The mother nature is also a silent spectator of your tender blissful life)

समझौतों से रह बेखबर, विश्व के स्पंदन का अंग हो तुम;
(Unaware of many of the agreements that run an adult life, you are a part of the world's heartbeat)

स्फुटित होता है उच्च कोटि का जीवन तुमसे;
(you display the life of the highest state)

तुमसे ही जीवन की सम्भावना पाती है मानव की जात;
(you show a possibility of "living" to the human race)

अब यहाँ से आगे की जब कल्पना भी करता हूँ मैं;
(When I think about the life you might be living in the days to come)

मन ही मन प्रार्थना करने लगता हूँ तेरे लिए मैं;
(I silently pray for you to be strong to face the harsh realities lying ahead for you)

अब से आगे जो प्रतिरोध स्वरुप जीवन विकसित होगा;
(As the life ahead you 'll have would born out of your resistances you meet)

प्रकृति के विरुद्ध तुझको अड़ा जो देगा;
(You will be at loggerheads with the forces of the nature)

जाने अनजाने तू जो विषाद का निर्माण करेगा;
(Knowingly or unknowingly, you would create pain and suffering for yourself)

शोक और कलेश में जो जीवन बीतेगा;
(The life might see its share of sorrows and sadness)

तेरे सपने और अब उपस्थित दैवीय गुण सब लुप्त प्राय से होंगे;
(The dreams and the divine qualities you have now, would simply disappear)

नाम इस विकास का परिपक्वता होगा;
(We, in this world, call it maturity!)

Tuesday, April 21, 2009

The Game

Game : General Definition
-------------------------------
A game is a structured activity, usually undertaken for enjoyment and sometimes used as an educational tool. Games are distinct from work, which is usually carried out for remuneration, and from art, which is more concerned with the expression of ideas. However, the distinction is not clear-cut, and many games are also considered to be work (such as professional players of spectator sports/games) or art (such as jigsaw puzzles or games involving an artistic layout such as Mah-jongg solitaire).

Key components of games are goals, rules, challenge, and interaction. Games generally involve mental or physical stimulation, and often both. Many games help develop practical skills, serve as a form of exercise, or otherwise perform an educational, simulational or psychological role. According to Chris Crawford, the requirement for player interaction puts activities such as jigsaw puzzles and solitaire "games" into the category of puzzles rather than games.



Game : Definition in Transactional Analysis
-----------------------------------------------

A game is a series of transactions that is complementary (reciprocal), ulterior, and proceeds towards a predictable outcome. Games are often characterized by a switch in roles of players towards the end. Games are usually played by Parent, Adult and Child ego states, and games usually have a fixed number of players; however, an individual's role can shift, and people can play multiple roles.

Berne identified dozens of games, noting that, regardless of when, where or by whom they were played, each game tended towards very similar structures in how many players or roles were involved, the rules of the game, and the game's goals.

Each game has a payoff for those playing it, such as the aim of earning sympathy, satisfaction, vindication, or some other emotion that usually reinforces the life script. The antithesis of a game, that is, the way to break it, lies in discovering how to deprive the actors of their payoff.

Students of transactional analysis have discovered that people who are accustomed to a game are willing to play it even as a different "actor" from what they originally were.
================================================
Source: www.wikipedia.com
================================================

Thursday, April 16, 2009

Aabida - A Short Story finds its place on TECHMATE

Today one of my stories, which have so far been published on this blog only, appeared on "TECHMATE".

"TECHMATE" is an intranet web site for publishing the creative text from its employees within Tech Mahindra Ltd.

Creative "khujli" joron se ho rahi hai...

Tuesday, April 14, 2009

एक कहानी

"पहुंचकर फ़ोन कर देंगे", उदात्त ने कार में बैठते हुए कहा। जब कर आगे बढ़ी तो ड्राईवर की सीट पर उदात्त, बगल में उदात्त के बड़े भाई विनोद और पिछली सीट पर उदात्त की पत्नी सुमति बैठी थी। चलते चलते गाड़ी को विदा करने पूरी की पूरी भीड़ खड़ी थी - उदात्त की माँ, गांव के सभी रिश्तेदार और नया दूल्हा अजीत भी जो उदात्त का चचेरा भाई था।

अजीत कि शादी के बाद वर-वधु को लेकर आने की जिम्मेदारी उदात्त को सौंपी गई थी। वर वधु को कुशल पूर्वक गांव तक लाकर उदात्त अगले ही दिन वापिस शहर लौटने की तैयारी कर चुका था।

गांव से विदा लेकर तीनों कुछ ही देर में कसबे को मुख्य हाई वे से जोड़ने वाली सड़क पर जा पहुंचे। गाड़ी की रफ़्तार ठीक ठाक ही थी। तीनो ही अपनी अपनी सोच में डूबे थे। उदात्त की सोच एक बेहतर कार ले लेने की थी। विनोद को शीघ्र घर पहुँचने और अपने बचे खुचे काम पूरे करने की धुन थी। सुमति उस विवाह में देखे गए आभूषणों और वस्त्रों को पुनः याद कर आनंदमग्न थी।

एक ट्रक से आगे निकलने की कोशिश में उदात्त ने अपनी गाड़ी की रफ़्तार बढ़ा ली। इसी समय ट्रक ड्राईवर ने भी थोड़ा दांयें अपना ट्रक घुमाया, सामने से आती दूसरी कार को बचाने की कोशिश की थी उसने। सामने से आती कार तो बच गई पर ट्रक अपने दांयें से आगे बढती उदात की कार से टकरा गया। उदात्त ने जल्दी ही खतरा महसूस कर के गाड़ी तेजी से अपने और दांयें घुमाई और तेजी से ब्रेक लगाकर किनारे की और गाड़ी को काटा। उदात्त का गाड़ी चलाने का अनुभव काम आया और अंदर बैठी तीनों जाने सुरक्षित रहीं; उसकी कार के दाहिने हिस्से को जरूर नुक्सान पहुँचा। गाड़ी की टक्कर और तीनों प्राणियों के अपने आप को सुरक्षित पाने की निश्चितता के बीच कुछ पल भर का ही फासला था।

सारी औपचारिकताओं को घटनास्थल पर पूरा कर उदात्त आगे बढ़ चला। सभी को सुरक्षित पा कर आपस में सभी ने खुशी जताई और भगवान को धन्यवाद् दिया।

सारे रास्ते उदात्त अपने ड्राइविंग कौशल को सवाल करता रहा। उस चूक से आइन्दा बचने के तरीकों कोमन ही मन जैसे इजाद करने लग पड़ा था वो। सुमति सारे रास्ते अपनी अब तक की गई पूजा पाठों का धन्यवाद देने में लगी हुई थी। ईश्वर ने उस भक्ति का परिणाम आज सबकी जान बख्श कर दे दिया - सुमति को गहरा भरोसा था इस बात पर। विनोद भी अपने ही ख्यालों में व्यस्त था। उदात्त को बहुत सी सीख यहीं दे डाले ऐसी उसकी तीव्र इच्छा हो रही थी। अब एक बड़े भाई का अपने छोटे भाई से जुडाव कुछ ऐसा ही तो होता है। जग के सारे बड़े भाई अपने से छोटों के लिए अपनी जिम्मेदारी का प्रदर्शन करते हुए कुछ आक्रामक तो हो ही जाते हैं। ऐसी ही आक्रामक होने की तीव्र इच्छा को दबाने की कोशिश में विनोद। हालाँकि इस इच्छा का विरोध उसे चिडचिडाहत से भी भर रहा है। ऐसी मनोदशा में विनोद को रह रहकर ट्रक ड्राईवर, उदात्त, अपने माँ-बाप, अपने पूर्व अध्यापकों, अपने सहकर्मियों, पड़ोसियों और यहाँ तक की अपनी पत्नी और बच्चे पर भी गुस्सा आता जा रहा है। ये सोच विचार प्रतीत होता है की मानो कुछ समाधान पाने कि आशा से किया जा रहा हो, पर अभी इस क्षण में तो ये विनोद की मजबूरी बन चुका है - पर समाधान है कि कभी प्रकट होने का नाम नहीं लेता। उदात्त को भी इस तरह का आदतन सोच विचार अपने नियंत्रण में लिए हुए है, पर उदात्त को इसकी उपस्थिति का अहसास है। जान चुका है वो इन ताकतवर किंतु स्वयं को हराने वाले विचारों के उमड़ते हुए बादलों का. इसी समय उसने गुरु के ज्ञान को मन ही मन दुहराना शुरू कर दिया है।
गुरु, जिसने कभी उसे बताया था कि कोई घटना और उस घटना का विवरण दोनों बिल्कुल अलग अलग बातें होती है और हम में से अधिकतर इंसान उन्हें एक करके देखते हैं। बहुत से वैचारिक विपदाओं का जन्मदाता यही चक्र तो है।

ज्ञान के इस दुहराव ने उदात्त को तुंरत विचारों के चंगुल से मुक्त कर दिया और तुंरत पुरानी मुक्तिकारक अनुभूतियों से जोड़ दिया । उदात्त ने तुंरत ये बातें विनोद और सुमति को भी बताईं। उन पर इस तात्कालिक अर्जित ज्ञान का कोई असर होता नहीं दिखा।
ज्ञान और अनुभूति (experience) दोनों ही बिल्कुल अलग तरह की होती हैं। जिन्दगी का निर्वाह ज्ञान से ज्यादा अनुभूति से नियंत्रित होता है।

सभी ने आने वाले कुछ ही घंटों में अपने अपने तरीकों से अपनी मानसिक यंत्रणाओं को काबू कर लिया। किंतु विनोद और सुमति के लिए ये अनुभव सिर्फ़ एक याद से कहीं ज्यादा था। जीवन भर ऐसी घटना से बचने की सीख और साथ ही ये कहानी भी वो अपने इर्द गिर्द के लोगों को जरूर देते रहेंगे।

घर लौटकर जब गांव फ़ोन किया तो माँ के आगे ये बात निकल ही गई। माँ हैरान परेशान सी सवाल डर सवाल पूछती चली गई। शायद कोई भुत या प्रेत गांव से ही साथ हो लिया होगा, माँ ने सोचा। घटना के साथ हम कैसे अपने अनुभव से कोई एक कहानी झट से चिपका देते हैं हम - उदात्त ने सोचा। ये कहानी ही तो हमारी सच्चाई बन जाती है सारी उमर के लिए। घटना तो सिर्फ़ एक घटना भर ही होती है न - और सच्चाई सिर्फ़ और सिर्फ़ हमारी सच्चाई, जिससे हम उस घटना को देखते हैं। इस कहानी या हमारी सच्चाई का अस्तित्व वहां कहीं बाहर न होका हमारे मन मस्तिषक में होता है जिससे हम अपने निकट के सभी लोगों को प्रभावित कर डालते हैं।

माँ ही नहीं, यह घटना गांव या शहर के उदात के पड़ोसियों, जिसको भी पता चली सभी ने अपने अपने तरीके से उसके कारण और अपने साथ ऐसा न हो विचारों से अपना दिमाग भर लिया था। कहते हैं न - "हज़ार मुहं हज़ार बातें" - शायद हरेक व्यक्ति की किसी एक घटना से जुड़े अपनी अपनी व्याख्या को ही संबोधित करता है ये वाक्य।

घटना तो सिर्फ़ ये थी की को एक ट्रक ने हलकी सी टक्कर मर दी थी, बसट्रक ड्राइवर की सच्चाई तो यही थी

--------------------------------------------

Saturday, April 11, 2009

Road Pe Raahi Bhai Bhai

Another SELP project that is already out there creating a difference is "Road Pe Raahi Bhai Bhai".
It addresses the problem of road rage and the people behind it have taken a stand to make people aware about their own role and responsibility of making our roads safer to drive on.

Visit the project's web site.

Friday, April 10, 2009

Perpetual Living - Krishan's Accomplishments

Today Krishan informs the leadership program team about his achievement - his wife and he went ahead with their friends and a group of senior citizens to discuss the possibility of making all these people pursue their hobbies and express themselves.

Krishan's efforts are very inspiring for the team and we all are charged up to accomplish similar feats in our respective projects.

Here are the pictures from the event that took place in Noida.....

Click here to see the pictures

Abundance vs Survival

I overheard these terms a few times before but had no idea of the background of it.
The other day, as my habits take me, I was just running through the pages of a book on the book stall, I found this phrase "Abundance vs Survival" again ( An omen - The Santiago in me would shout out ;-) with out even referring to Urim or Thummim ). And it forced me to search for it on the Internet.

These two are the spaces we come from in any conversation....
If we come from the space of survival for a certain thing, lets say money, our way of relating to money would be t merely survive for life long; but coming from abundance would surely give us a way of being that opens up the gates of the possibility of relating to the money without any anxiety.

For more clarity on the topic :

1. Watch this video

2. Read this blog

Tuesday, April 7, 2009

The Zone and The Optimum Level Of Anxiety

Today evening we started to work on a presentation on one concept from Buddhist texts.
This presentation would be shown to a larger gathering later.

During the discussions, we were figuring out the road map of our presentation.
Suddenly our leader for the presentation asked the team members as what is their way of relating to chanting daimoku.

For all of us its all about the faith and the prayer.
I realized there that it catapults me into the zone or the flow.

The zone or the flow is a well recognized state of mind which is self-forgetful. Being in the flow makes the excellence effortless - ever seen Sachin Tendulkar or other in form sportsman, stage performers, dancers, actors, painters, singer or even yourself fully immersed in doing something you love.

When one is in the flow, the person is enjoying life but when they are in stress or anxiety, they are a kind of barred from entering the flow.

On the lighter side, if you get the meaning of the above two paragraph, you can deduce the effect of sledging on the Indian Batsman in Australia. Sledging or verbal abuse can stress out an in form batsman and hence can force him out from his zone or flow, where the person would have performed his best otherwise.

Moreover if we see someone singing, dancing or acting in the flow - we would find that task very easy to do - we miss the state of mind of the performer here.


Being in the flow means "being cool" in all true sense.

It was also during the discussion with this leader, who herself aware of psychology intricacies, it seems, when she spoke of a word - "Optimal Anxiety".

Optimal Anxiety is the amount of anxiety that work in the favor of the beholder be it an exam or some stage performance. If anxiety levels exceed from here - it becomes panic that spoils the game.

Cool learnings....is n't it ;-)

Sunday, April 5, 2009

From Buddhism

Dr. Ikeda writes in soka family's monthly news letter: real happiness is not the absence of problems, difficulties or suffering. Here he refers to Nichiren Daishonin who has written - Difficulties are to be regarded as peace and comfort.

I opine on the above saying as: we do regard many things that are pleasant to us but unpleasant things create an inner conflict that may be very loud or subtle, but mere awareness or acceptance of such a creeping thought pattern would open up a path to getting rid of it, and from here onwards we can regard the presence of problems in life and uplift our life state to counter it.Don't we do it in sports?

-Rahul

Taj Mahal - I didn't think of you

Visited Agra this weekend, Agra is my city, but I didn't think of the Taj Mahal's existance there for even once during this whole trip!!
My stay there or on the way to Agra or while driving down from Agra to Delhi - Taj, you did not come on my radar even for a single time ( not on my radar is a new catchy phrase I have borrowed from the friends in the laedership course I am a part of, these days; A pilot has coined it - who else!).

Could also recall here while writing, I had visited the Taj for the first time in October 1986 with my father - a flock of we three brothers and two cousins, all of us following my father.

Shifting base to Agra later and further visiting Agra on official trips from CMC Ltd. makes me the second person after Shahjehan for having seen the Taj Mahal for the maximum number of times...

Thursday, April 2, 2009

ओंस में नहाई हुई घास


कभी यूँ ही सुबह उठकर देखिये, सामने के मैदान पर उगी घास;
डूबी हुई ओंस की बूंदों में सुबह सुबह;
या अपने उस क्षण में प्रातः स्नान का आनंद लेती सी;

पूर्णतः बेख़बर बाह्य परिवेश से;
जी रही है जीवन के उसी पल में;

व्याकुल है बीते समय को याद कर;
भविष्य की ही चिंता में मग्न;

नकारकर भूत या भविष्य का अस्तित्व;
प्रदर्शन कर रही है असाधारण जीवन का साक्षात्;

कभी यूँ ही सुबह उठकर देखिये, सामने के मैदान पर उगी घास;
डूबी हुई ओंस की बूंदों में सुबह सुबह;
या अपने उस क्षण में प्रातः स्नान का आनंद लेती सी;